Poem On Rakhi Festival In Hindi | राखी (रक्षाबंधन) के त्यौहार पर हिंदी कविताएँ

Poem on rakhi in hindi,Short poem on rakhi in hindi,Hindi Poem On Rakhi Festival,Rakhi poem for brother in hindi,Rakhi festival poem in hindi,

दोस्तो, आज हमने आपके लिए poem on rakhi in hindi पर एक बेहतरीन लेख लिखा है, जो आपके लिए रक्षाबंधन के त्यौहार के दिन बड़े काम आ सकती है, जिससे आप राखी के दिन अपने बहन या भाई को सुना सकते है, जिससे आपका रक्षाबंधन त्यौहार धूमधाम से मनाया जा सके।


राखी का त्यौहार याने बहन-भाई का त्यौहार माना जाता है, इस दिन पर बहन अपने प्यारे भाई को राखी बांधती है, और भाई की पूजा करके उसे रंगबिरंगी मिठाई खिलाती है, और भाई भी अपने बहन का मुंह मीठा करता है, और फिर भाई अपनी बहन को एक अच्छासा उपहार देता है, जिससे बहन बहुत खुश हो जाती है।


रक्षाबंधन का दिन ही भाई-बहन के लिए है, जो हर बहन अपने भाई को राखी बांधती है, और भाई के साथ पूरा दिन बिताती है, जो रिश्तों को और भी मजबूत कर देता है, इसीलिए आज हमने रक्षाबंधन पर बेहतरीन कविता लिखी है, जो आपको जरूर पसंद आएगी।


Poem On Rakhi Festival In Hindi | राखी (रक्षाबंधन) के त्यौहार पर हिंदी कविताएँ


Poem On Rakhi Festival In Hindi | राखी (रक्षाबंधन) के त्यौहार पर हिंदी कविताएँ
Poem on rakhi in hindi pic

Table of content


  1. Poem on rakhi in hindi
  2. Short poem on rakhi in hindi
  3. Hindi Poem On Rakhi Festival
  4. Rakhi poem for brother in hindi
  5. Rakhi festival poem in hindi


Poem on rakhi in hindi


आज है त्यौहार राखी का,

मनाओ त्यौहार छोड़ के काम बाकी का।


एक दिन छुट्टी ले भी लो यारों,

आज है बहन भाई का त्यौहार यारों।


घर पर जल्दी जाओ मेरे यारों,

ऑफिस का काम तो रोज़ का ही है यारों।


बहन के लिए उपहार लेते जाना यारों,

नाराज नहीं होने देना है आज बहन को यारों।


ख़ूबसूरत राखी आज वो लाई होगी,

मिठाई भी साथ में होगी।


बस हमारा इंतजार वो कर रही होगी,

कब आएगा भाई मन में सोच रही होगी।


चुपके से उसके सामने जाना,

उसे प्यारा सरप्राइज दिलाना।


उसकी राखी कलाई पर बांधना,

उसका गिफ्ट उसे है देना।


उसके चेहरे की मुस्कान देख कर,

तुम गले से उसको लगाना।


आज है त्यौहार राखी का,

मनाओ त्यौहार छोड़ के काम बाकी का।



Aaj hai tyohaar rakhi ka kavita


Aaj hai tyohaar rakhi ka,

Manao tyohaar chhod ke kaam baki ka..!


Ek din chhutti le bhi lo Yaron,

Aaj hai behan bhai ka tyohaar Yaron..!


Ghar Par jaldi jao mere Yaron,

Office ka kaam to roj ka hi hai Yaron..!


Behan ke liye gift lete jana Yaron,

Naraz nahi hone dena hai aaj behan ko Yaron..!


Khubsurat rakhi aaj wo layi hogi,

Mithai bhi sath me layi hogi..!


Bas humara intezar wo kar rahi hogi,

Kab aayega bhai man me soch rahi hogi..!


Chupke se uske samne jana,

Usko pyara surprise dilana..!


Uski rakhi kalai par bandhana,

Uska gift use hai dena..!


Uske chehre ki muskan dekh kar,

Tum gale se usko lagana..!


Aaj hai tyohaar rakhi ka,

Manao tyohaar chhod ke kaam baki ka..!



Short poem on rakhi in hindi


ओह मेरी बहना ओह मेरी बहना,

राखी का त्यौहार आया है,

घर घर में खुशिया लाया है।


मुझे सवेरे आज नहाना है,

तेरे लिए स्पेशल गिफ्ट लाना है।


लाउ ढेर सारी चॉकलेट या खूबसूरत लहंगा आज,

तुझे मेरा गिफ्ट जरुर पसंद आएगा आज।


राखी जो तेरे हाथों से मुझे बांधना है,

भाई का फ़र्ज़ मुझे निभाना है।


तेरे हाथों से मिठाई मुझे खाना है,

एक फोटो तेरे साथ खिचवाना है।


तेरी रक्षा मुझे हमेशा करना है,

ये वादा तुझसे करना है।


ओह मेरी बहना ओह मेरी बहना,

राखी का त्यौहार आया है,

घर घर में खुशिया लाया है।



Ohh meri behna kavita


Oh meri behna ohh meri behna,

Rakhi ka tyohar aaya hai,

Ghar ghar me khushiya laya hai..!


Mujhe savere aaj nahana hai,

Tere liye special gift lana hai..!


Lau dher sari chocolate ya khubsurat lehenga aaj,

Tujhe mera gift jarur pasand aayega aaj..!


Rakhi jo tere hathon se mujhe bandhana hai,

Bhai ka farz mujhe nibhana hai..!


Tere hathon se mithai mujhe khana hai,

Ek photo tere sath khichwana hai..!


Teri raksha mujhe hamesha karna hai,

Yehi wada tujhse mujhe karna hai..!


Oh meri behna ohh meri behna,

Rakhi ka tyohar aaya hai,

Ghar ghar me khushiya laya hai..!



Hindi Poem On Rakhi Festival


बहन भाई का त्यौहार है आज,

राखी का त्योहार है आज।


दिखी है बाजार में रंग बिरंगी राखी आज,

बहन खरीदे भाई के लिए राखी आज,

मिठाई भी ले वो उसके साथ।


घर में रोशनी खूब होगी आज,

भाई का इंतजार करती बेहना आज।


भाई उपहार देता है बहन को आज,

चॉकलेट हो या सर का ताज।


जब बहना राखी भाई को बांधे,

भाई बहुत ही खुश हो जाये।


जेब से अपने बहन के लिए उपहार निकाले,

बहन उपहार मिलते ही मुस्काये।


बहन भाई के पैर पड़ती है,

भाई का आशीर्वाद वो लेती है।


भाई बहन का है ये दिन आज,

इसे मनाओ तुम सब आज।


बहन भाई का त्यौहार है आज,

राखी का त्यौहार है आज।



राखी पर बेहतरीन कविता


Behan bhai ka tyohaar hai aaj,

Rakhi ka tyohaar hai aaj..!


Dikhti hai bazar mein rang birangi rakhi aaj,

Behan kharide bhai ke liye rakhi aaj,

Mithai bhi laye wo uske sath..!


Ghar me roshni khub hogi aaj,

Bhai ka intezar karti behna aaj..!


Bhai uphaar deta hai behan ko aaj,

Chocolate ho ya sar ka taaj..!


Jab behna rakhi bhai ko bandhe,

Bhai bahut hi khush ho jaye..!


Jeb se apne bahan ke liye uphaar nikale,

Bahan uphaar milte hi muskuraye..!


Bahan bhai ke pair padti hai,

Bhai ka ashirwad leti hai..!


Bhai bahan ka hai ye din aaj,

Ise manao tum sab aaj..!


Behan bhai ka tyohaar hai aaj,

Rakhi ka tyohaar hai aaj..!



Rakhi poem for brother in hindi


बहन की राखी भाई का प्यार,

मुबारक हो आपको ये राखी का त्यौहार।


राखी का त्यौहार आया,

संग अपने खुशीया लाया।


भाई बहन का है ये दिन,

खुशियों से भरा रहे आज का दिन।


आज राखी बांधने मेरे भैया है आए,

बहन के लिए उपहार लाए।


बहन ने खूबसूरत राखी है बांधी,

भैया ने चॉकलेट खिलाई।


भैया दे बहन को आशीर्वाद,

बहन भी बोले क्या बात क्या बात।


बहन की राखी भाई का प्यार,

मुबारक हो आपको ये राखी का त्यौहार।



बहन की राखी भाई का प्यार कविता


Bahan ki rakhi bhai ka pyar,

Mubarak ho aapko ye rakhi ka tyohar..!


Rakhi ka tyohar aaya,

Sang apne khushiya laya..!


Bhai bahan ka hai yeh din,

Khushiyon se bhara rahe aaj ka din..!


Aaj rakhi badhane mere bhaiya hai aaye,

Bahan ke liye uphaar laye..!


Bahan ne khubsurat rakhi hai bandhi,

Bhaiya ne chocolate khilayi..!


Bhaiya de bahan ko ashirwad,

Bahan bhi bole kya baat kya baat..!


Bahan ki rakhi bhai ka pyar,

Mubarak ho aapko ye rakhi ka tyohar..!



Rakhi festival poem in hindi


राखी का त्यौहार है,

बहन भाई का त्यौहार है।


अपनो का त्यौहार है ये,

रिश्तों का त्यौहार है ये।


बहन जब बाँधे राखी भाई को,

बहन-भाई का प्यार दिखे सब को।


भाई भी दे उपहार अपने बहन को,

बहन का दिल खुश हो जाए तब तो।


तब वादा करता है भाई,

रक्षा सदा बहन की करता रहता है भाई।


भाई का बहन को अब ये है कहना,

सदा ही तुम ऐसे ही खुश रहना।


बहन भाई का ये प्यार है,

सबसे अलग ये प्यार है।


राखी का त्यौहार है,

बहन भाई का त्यौहार है।



रक्षाबंधन पर कविता


Rakhi ka tyohar hai,

Bahan bhai ka tyohaar hai..!


Apno ka tyohaar hai ye,

Rishton ka tyohaar hai ye..!


Bahan jab bandhe rakhi bhai ko,

Bahan-bhai ka pyar dikhe sabhi ko..!


Bhai bhi de uphaar apne bahan ko,

Bahan ka dil khush ho jaye tab to..!


Tab wada karta hai bhai,

Raksha sada behan ki karta rehta hai bhai..!


Bhai ka bahan ko ab ye hai kehna,

Sada hi tum aise hi khush rahna..!


Bahan bhai ka ye pyar hai,

Sabse alag ye pyar hai..!


Rakhi ka tyohar hai,

Bahan bhai ka tyohaar hai..!



इसे भी पढ़े : 


कुछ आखरी शब्द :


आज लिखी हुई  poem on rakhi in hindi आपने पूरी पढ़ ली हो तो आपको जरूर हमारे इस राखी पर बेहतरीन कविता से कुछ सीखने को मिला होगा, आपको किसी की तारीफ करनी हो तो आज बहन की करे, क्योंकि बहन हमारी माँ ही होती है।


आशा करता हु की हमारी kavita on raksha bandhan in hindi आपको जरूर अच्छी लगी होगी। अगर अच्छी लगी हो तो ऐसेही हिंदी कविता यहाँ पढ़ते रहे।

एक टिप्पणी भेजें