आज मै आपको school life love story in hindi सुनाने जा रहा हु जो कि true लव story है मेरे बचपन के school ke dino ki love story है जो आपको बहुत पसंद आएगी। क्यों की स्कूल मे मुझे दो बार प्यार हुआ था।


ये school crush love story in hindi स्टोरी मै बहुत short मे सुनाना चाहूंगा मुझे लगता है कि ये स्टोरी आपको समझ मे भी आये और आपका वक़्त भी बचे।


School life love story in hindi | अब वो कहा होगी कहानी | school wali love story


School Life Love Story In Hindi | अब वो कहा होगी कहानी (Part-1)
school wali love story image

ये मेरे बचपन की बात है तब मै 1 st std.मे पढ़ता था। मेरा पहला दिन था स्कूल मे तब मै बहुत घबराया हुआ था क्यों के सब नए थे और ये तो सब के साथ होता है। अब 1st std. मे जैसा जैसा वक़्त गुजरते गया वैसे वैसे नए दोस्त बनने लगे। 


तब हम सब नीचे बैठते थे जैसे कि आज के टाइम मे बेंच पे बैठते है तब के टाइम मे नीचे चटाई डालके सब बैठते और पढ़ते थे। 


अब मेरे नए दोस्त भी बन चुके थे तो हमारा रोज का hindi funny story पर बातें करना स्कूल के मैदान मे जाके साथ साथ खाना खाके हम सब खेलते थे ये रोज का हो गया था लेकिन एक दिन ऐसा हुआ कि टीचर ने मेरे दोस्तों को और मुझे अलग अलग बैठाया जैसे कि पहले लडकिया एक तरफ थी और पूरे लड़के एक तरफ बैठते थे लेकिन अब पहले लड़को की लाइन फिर लड़कियों की फिर लड़के फिर लड़की ऐसे लाइन्स थी क्योंकि टीचर ने जो बोला था।


तो हम सब जैसे बोला था वैसे ही बैठ गए लेकिन मज़ा नही आ रहा था दोस्त जो पीछे बैठे थे ऐसे ही दिन बीतते गए और एक दिन मेरे बाजू मे एक सुंदर सी घुंगराले बालो वाली माथे पर छोटीसी बिंदी लगाए एक लड़किने मुझे पूछा कि क्या आपके पास लेखन है लेखन आप समझे न जो उससे हम पाटी पे लिखा करते थे वो लेखन है क्या ऐसे उसने मुझसे पूछा।


Love story of school life in hindi


जैसे उसने मुझे पूछा उस वक़्त मैने उसके तरफ देखा तो छोड़ दो यार क्या बताऊँ थोड़ी देर देखता ही रह गया पता नही क्या हुआ था कुछ अजीब सा शायद दिल को छू गयी हो लेकिन इतने कम उम्र मे कहा कुछ समझता था। 


लेकिन कुछ तो हुआ था उसे थोड़ी देर देखा तो वो काली आँखे, घुंगराले बाल, माथे पे छोटीसी बिंदी और क्या तारीफ करू दिल को भा गयी थी शायद लेकिन मुझे कहा समझता था उस टाइम की प्यार नाम की भी कुछ होता है।


तो थोड़ा मैने देखा और बोल दिया कि हाँ मेरे पास लेखन है तो मैने उसे मेरे कंपास से निकाल कर दे दिया अब तब कहा thank you वगेरा चलता था कुछ भी नही बोला सीधे ले लिया और लिखना चालू कर दिया उसने मैने अपना लिखना चालू किया वो मेरा पहला टाइम था जब मैने कीसी अनजान लड़की से बात की हो वो भी सिर्फ हाँ यही वो शब्द था।


अब दूसरे दिन की बात ये हुई कि दूसरे दिन उसका जन्मदिन था उस दिन मै थोड़ा क्लास मे देर से पहुंचा था तो मुझे कुछ पता नही था क्योंकि हमारे वक़्त जिसका भी जन्मदिन होता था तो वो क्लास मे chocolates जरूर बाटते थे वैसा ही उस दिन भी हुआ जैसा कि मै क्लास मे देर से आया तो मुझे पता भी नही चला क्योंकि मुझे chocolate नही मिली थी।


अब मै क्लास मे आया और अपने जगे पे बैठ गया याने उसीके बाजू मे मैने इधर उधर देखा तो सब chocolates खा रहे थे मै हैरान रह गया कि chocolates एक नही तो सभी खा रहे है मुझे भी chocolates बहुत पसंद थी भाई बचपन मे chocolates किसे पसंद नही होती मैने सोचा किसी का बर्थडे तो जरूर है। 


आज लेकिन किसका ये पता नही था लेकिन तभी उसने मेरे बाजू वाली ने यार.. मुझे एक चॉकलेट दीया और बोली कि आज मेरा birthday है मैने बड़े प्यार से उसने दिया हुआ चॉकलेट लिया और बोला और एक दो ना चॉकलेट तो उसने बिना कुछ बोले दे दिया।


School ke dino ki love story | kahani for love in hindi


इससे मुझे पता चला था कि वो भी मुझे पसंद करती है लेकिन जैसे कि मैने बोला कि उस वक़्त की जो सोच थी वो बिल्कुल भी अभी के सोच से मिलती नही याने वो प्यार वाली तो थी लेकिन तब कुछ भी समझ नही आता था कि ये क्या हो रहा है लेकिन कुछ तो था कि वो मुझे अच्छी लगने लगी थी।


थोड़ा twist तो सबके कहानी मे होता है मेरे कहानी मे भी था वो twist ऐसा था कि जब स्कूल छूटती है तब मै हमेशा मेरे दोस्त के साथ घर जाया करता था लेकिन उस दिन से याने उसके birthday के दिन से वो मेरे साथ घर के रास्ते से आती थी।


याने उसका घर स्कूल से थोडीही दूरी पे था लेकिन रास्ता तो एक ही था तो उस दिन वो मेरे साथ थोड़ी दूर आयी थी वो भी उसकी मर्जी से..मै तब स्कूल के मैदान से घर जाया करता था लेकिन मुझे पता नही था कि वो भी वहाँ से घर जाया करती है।


बस मैदान से निकलते ही थोड़ी दूरी पे उसका घर था मै लेफ्ट मे मूड जाता और वो राइट मे लेकिन थोड़ी दूरी फिर भी अजनबी ऐसा था हमारा रिश्ता वो तो शुरुआत थी जब पहली बार वो मेरे साथ कुछ वक्त के लिए पलभर का रास्ता शेयर किया तब मै बहुत खुश था लेकिन एक बात बता दु उस वक़्त कुछ भी समझ नही आता था लेकिन कुछ अंदर से जरूर हो रहा था शायद वो मुझे बहुत पसंद आयी होगी।


फिर घर जाकर मै सीधा खेलने गया। रात को पापा घर आये और मेरे लिए चॉकलेट लाये तो मै बहुत खुश हुआ। पापा ने मेरे लिए 4 चॉकलेट लाये थे तो उसमें से मैने 2 खा लिया और 2 कल स्कूल में खाने के लिए रखे थे।


School crush love story in hindi love life stories


दूसरे दिन मैं स्कूल गया और क्लास मे बैठ गया। मेरी पहली नजर उसपे गिरी और उसने भी मुझे बड़े प्यार से देखा और बोली तुम prayer के लिए क्यों नही आये मुझे दिखे ही नही तो मैने कहा कि मै चॉकलेट्स लाने गया था।


तो वो बोली मुझे भी चाहिये चॉकलेट्स तो मैने बिना सोचे जल्दी से चॉकलेट्स दे दी वो बहुत खुश थी और मै भी ऐसेही चलता रहा मै चॉकलेट्स लाता रोज और वो खाती थी।


ऐसे ही दिन बीतते गए और हम दोनो 1st std.से 4th std. पहुच गए। उस टाइम हमारी दोस्ती पक्की हो गयी थी और और शायद मुझे एक तरफा प्यार। हम सब साथ मे खेलते थे। वो पहला ही दिन था जब हम 3rd std. से 4th std. मे गए थे।


4th std.के पहले दिन ही हमने साथ साथ खाना खाया और मैदान मे सभी क्लास के लड़के और लड़कियां खेलने लगे। लेकिन तभी मुझे क्लास मे एक नई लड़की दिखी जो डायरेक्ट 4th में हमारे स्कूल मे दाखिला लिया था और वो मेरे क्लास मे थी।


फिर मेरे प्यार की कहानी मे नया मोड़ आया वो मै आपको कहानी के दूसरे पार्ट मे सुनाऊँगा। और वो भी दूसरे ही दिन तो पढ़ते रहिये।...to be continued..Hindi love story for school life


ये मै आपको मेरी true school life love story in hindi बता रहा हूँ इसे जरूर पढियेगा जब मुझे लिखते वक्त मज़ा आ रहा है तो आपको तो जरूर आएगा लेकिन कहानी बहुत लंबी होने वाली है तो इसके कुछ पार्ट हमे बनाने पड़ेंगे इसके लिए आपको क्षमा मांगते है"| 


इसे भी पढ़िए : True Love Ki Kahani In Hindi | Love Kahani In Hindi (Part-2)


और नया पुराने