आप पढ़ रहे है true love ki kahani in hindi पिछले पार्ट मे याने की (part-1) मे आपको मेरी स्कूल लाइफ लव स्टोरी की आधी कहानी सुनाई थी। अब मै उसके आगे की कहानी सुनाऊँगा याने के (part-2) तो चलिए शुरू करते है।


True Love Ki Kahani In Hindi | Love Kahani In Hindi


True Love Ki Kahani In Hindi | Love Kahani In Hindi (Part-2)
true love ki kahani in hindi image

मेरे प्यार की कहानी मे एक नया मोड़ आया


जब उस नई आयी हुई लड़की ने हमारे स्कूल मे दाखिला लिया तो वो हमारे ही क्लास मे आयी। ऐसा है कि हमारे स्कूल मे 4 थी के 2 क्लास थी क्लास "अ" और "ब" मै क्लास "अ" मे था तो वो नई लड़की हमारे क्लास मे आयी थी।


हैरानी की बात तो ये है कि जो मेरी पहली दोस्त थी दिससे मै बहुत पसंद करता था उसके पीछे ही ये नई आयी लड़की बैठने लगी और मै उसके बाजू मे ही था याने दोनो के बाजू मे मै था।


यार अजब गजब बात तो ये है कि मुझे स्कूल मे नई आयी हुई लड़की देखते ही बहुत पसंद आने लगी। क्योंकि वो दिखने मे बहुत ही सुंदर थी। वो मुझे ही नही बल्कि मेरे कुछ दोस्तों को भी पसंद आयी थी।


उसकी वो बड़ी बड़ी आँखे, नाजुक से उसके हाथ, सावला सा उसका चेहरा, लंबे बाल, हाथों मे कंगन क्या बताऊँ यार सच मे नाजुक सी परी लग रही थी।


मै तो उस दिन से जिस दिन से वो क्लास मे आयी थी उस दिन से उसीकी तरफ देखता रहता था। क्या करूँ उस टाइम मुझे दोनो से प्यार हो गया था लेकिन नयी आयी हुई लड़की से कुछ ज्यादा ही हो गया था इस दो दिन मे।


Love kahani in hindi


अब मुझे प्यार क्या होता है इतना तो थोड़ा बहुत समझ गया था movie देख देख के तो मैने मन मे बोला लगे रह बेटा पट जाए तो चांदी ही चांदी मुझे तो इतना ही समझता था कि प्यार करना मतलब सिर्फ उसके साथ बातें करना और साथ मे खेलना। लेकिन आज तो कुछ ज्यादा सामने गया है प्यार, धोखा क्या क्या है भाई ख़ैर छोड़ो।


उसके बाद मेरे पहले प्यार ने मुझसे पूछा कि मेरे लिए चॉकलेट नही लाये तो मैने बोला आज तो नही लाया क्योंकि मै उसे रोज चॉकलेट देता था और खूब बातें किया करता था। तो उस दिन मैने उसे चॉकलेट नही लायी ऐसा कह दिया और शांत ही बैठ गया।


लेकिन मैने उस दिन भी चॉकलेट लाये थे लेकिन मुझे मेरे पुराने प्यार को नही बल्कि वो चॉकलेट्स मेरे नए प्यार को देना था। वो भी चुपके से लेकिन इसमे एक समस्या थी कि वो नयी लड़की तो मुझसे बात भी नही करती तो कैसे उसे ये चॉकलेट दु समझ नही आ रहा था।


School life ki love story in hindi


तो मैने सोचा कि किसी बहाने मै ही इससे बात कर लेता हूं। लेकिन कैसे मुझे तो डर भी बहुत लग रहा था लेकिन चॉकलेट तो देनी ही थी मुझे आज कोनसी भी हालत मे तो मैने एक आईडिया सोचा था।


की क्यों न मै इसे पेन्सिल ही मांग लू ताकि मेरी बात भी हो जाये और शुक्रिया बोलने के बजाय चॉकलेट ही दिया जाए तो ये आईडिया मुझे बहुत अच्छा लगा और मैन बिना देरी किये उसे पेन्सिल मांगी।


तो उसने बड़े शर्माते हुए मेरी तरफ देख के बोली कि रुको देखती हूं कम्पास मे ऐसा बोल के उसने अपना कम्पास खोला और पेन्सिल निकाली और शर्माते हुए मुझे दी। तब पता चला कि ये शर्माती भी है क्या बात है।


तो मुझे तो कोई काम नही था पेन्सिल का लेकिन अब मांगी है इतनी मेहनत करके तो थोड़ा तो लिखना ही पड़ेगा ऐसा सोच के मै बुक पे थोड़ा बहुत लिखा और उसे पेन्सिल वापस कर दी और शुक्रिया बोलने के बजाय उसे चॉकलेट दे दी तो उसने पहली बार मना कर दिया फिर दूसरी बार उसने खुशी खुशी ले ली।


और उसी वक़्त मेरे पहले प्यार की नजर मुझपे पड़ गयी। यार पड़नी ही थी बाजू मे ही तो बैठी थी तो उसने मुझे बड़ी गुस्से से देखा और बोली रुको टिफिन खाते वक़्त बताती हु। यहाँ मै नयी लड़की को चॉकलेट देने के खुशी मे झूमने ही वाला था तभी मेरे पहले प्यार ने आग लगा दी।


उसके बाद आधी छूट्टी मे हम सब टिफिन लेकर मैदान मे बैठे तभी मेरे पहले प्यार ने मुझे कहा कि तुम्हारे चॉकलेट थी तो मुझे नही है ऐसा क्यों कहा और वो तो तुम्हारी दोस्त भी नही है उसे क्यों वो चॉकलेट दी। जाओ आजसे मै तुम्हारे साथ बात नही करूँगी कट्टी…ऐसा बोलके चली गयी।


School crush love story in hindi


फिर क्या एक तरफ मै दुखी भी था और एक तरफ खुशी भी थी 50-50 लेकिन जब मै क्लास मे टिफिन खाने के बाद जब गया तब कुछ और ही देखने को मिला मेरा पहला प्यार उसने तो अपनी जगा ही बदल ली और वो मेरे दोस्त के बाजू मे बैठ गयी।


और मेरे तरफ गुस्से से देखने लगी मैने अपनी जगह पे जाकर चुपचाप बैठ गया और बाजुमे देखा तो वो नयी लड़की मुझे दिखी तो मै थोड़ा खुश हो गया। मन मे लड्डू फूटने लगे।


कुछ दिन ऐसा ही चलता रहा और उस नयी लड़की से मेरी दोस्ती हो गयी और हम रोज साथ मे खेलते साथ मे टिफिन खाते और बातें तो अब बहुत करते थे।


कुछ वक्त बाद मेरा पहला प्यार भी मुझसे अच्छेसे बात करने लगी और हम सब साथ साथ खेलने लगे, साथ साथ टिफिन खाने लगे, बातें करने लगे। एक दिन मेरा पहला प्यार बोला मुझे अभी चॉकलेट चाहिए तो उसे मैने चॉकलेट्स दे दी।


और वो खुश हो गयी। ऐसेही कुछ वक्त चलता रहा मेरा दूसरा प्यार उसने एक दिन मुझे देख के एक अलग तरीके से बड़ी प्यारिसी हसी के साथ मेरे तरफ देखा और बार बार देखती रही मै भी उसके तरफ देख के खुश हो रहा था।


अब मुझे लगने लगा कि वो मुझे पसंद करती है तो मैंने उसे बोला आप मुझे बहोत अच्छे लगते हो और उसने भी उस दिन मुझे आखिर बोल ही दिया कि आप भी बहोत अच्छे हो उस दिन क्या बताऊँ अंदर ही अंदर खुशी के लड्डू फूटने लगे थे।


Student life ki love story


तो मैने उसे बोला की मै थोड़ा बाहर से आता हूं ये बहाना बनाकर टीचर से बोल के बाहर दोस्त के साथ चला गया और नाचने लगा। तो मेरा दोस्त बोला क्या हो गया भाई तुझे मैने उसे कुछ भी नही बोलके बात को ताल दिया।


और क्लास मे आके बैठ गए। फिर उसकी तरफ देखा तो वो मेरे ही तरफ देख रही थी। तो मैने उसे कहा कि क्या मै तुम्हे तुम्हारे घर तक छोड़ने आ सकता हु। तो उसने हसके कहा क्यों? फिर मैंने कहा ऐसेही तुम्हारा घर भी देख लूंगा। 


तो उसने इसपर कहा ठीक है लेकिन मै जहा से बोलूंगी की यहासे आप घर जाओ आपको वहा से जाना पड़ेगा। तो मैने भी कह दिया लेकिन आपका घर देखके ही जाऊंगा। तो वो बोली ठीक है मै आपको दूर से ही दिखाउंगी। मैने कहा ठीक है।


तो स्कूल छूटने के बाद मैने मेरे घर का रास्ता छोड़ उसके घर के रास्ते उसके साथ चल दिया। उसके साथ साथ चलने का मजा कुछ और था। प्यार जो था लेकिन दूसरा यार सच्चा प्यार था लेकिन सच मे।


Love story of child school life


तो फिर हम चलते गए चलते गए फिर उसने बोला की वो देखो मेरा घर आ गया अब तुम यहां से चले जाओ तो मैने कहा कि हाँ मै जाता हूं। तो फिर वो भी अपने रास्ते और मै भी अपने रास्ते चल पड़ा और कुछ देर बाद मैने पीछे मूड के देखा तो वो उसके घर के गेट के पास खड़ी होके मुझे देख रही थी और आखिर मे मुझे टाटा bye bye किया और घर चली गयी।


और मै अकेला मेरे घर के रास्ते चला गया। लेकिन मै घर पोहचते ही खेलने जरूर जाता हूं लेकिन उस दिन मै घर मे ही उसके बारे मे सोचने लगा और मन ही मन मे हसने लगा। पता नही मुझे क्या हो गया था।


उस रात तो मै बहुत जल्दी ही सो गया। और दूसरे दिन जल्दी से स्कूल जाने की तैयारी करने लगा। क्योंकि मेरे मन मे बस यही चल रहा था कि अब उससे जल्दी मिलना है। और मै स्कूल की ओर निकल पड़ा जिस रास्ते से वो आती थी उसी रास्ते से और फिर…...To be continued…..


True love ki kahani in hindi का ये (पार्ट-2) था शायद ये कहानी पार्ट-3 मे ही खत्म हो सकेगी क्योंकि लंबी जो हो रही है। लेकिन मै इसका पार्ट-3 भी जल्दी से launga तो कृपया पढ़ते रहे ये कहानी।


और जरूर बताते रहे कि कैसी थी मेरी ये अब तक कि school ki love story जरूर बताएं। 



इसे पढ़िए : School Life Love Story In Hindi | अब वो कहा होगी कहानी (Part-1)


Post a Comment

और नया पुराने