Pyar Ka Ehsaas Shayari In Hindi | प्यार का एहसास कराने वाली शायरी

आज का हमारा लेख pyar ka ehsaas shayari in hindi पर लिखा गया है, जिसमे आपको एहसास पर लिखी गई सारी शायरियां मिल जाएंगी, जिसे आपके एहसास के लब्ज आपको

दोस्तो, आज का हमारा लेख pyar ka ehsaas shayari in hindi पर लिखा गया है, जिसमे आपको एहसास पर लिखी गई सारी शायरियां मिल जाएंगी, जिसे आपके एहसास के लब्ज आपको शायरी के माध्यम से किसीको भी सुनाना है, तो आप सही लेख पर आए है, जहाँ ढेर सारी एहसास पर शायरी लिखी गयी है।


आप तो जानते ही है कि, जब हमें प्यार होता है, तो वो एक अलग ही एहसास होता है, जिसके वजह से हम एक अलग ही दुनिया मे होते है, उस वक़्त हमारे मन मे अलग अलग तरह के खयाल आते है, और हमारा प्यार दिनबदिन बढ़ता ही जाता है, हम प्यार के लिए कुछ करने को तैयार रहते है हमेशा, ऐसा होता है प्यार का नशा और वो एहसास।


हमारा एहसास ही होता है, जो दर्द का हो या अपनेपन का हो एहसास होता जरूर है, अगर हमसे कही गलती ही जाए, तो उसका भी एहसास हमे हित है, चाहे वो जल्दी या उसमे थोड़ी देर हो होता जरूर है ये एहसास।

असल मायने में हमारे अंदर एक आवाज़ निकलती है, जो सिर्फ हमे सुनाई देती है, उसे ही एहसास कहते है, हमने भी आज इस लेख में अंदर आवाज़ इस प्यार का एहसास कराने वाली शायरी के माध्यम से आप तक पोहचाने कि कोशिश की है।


Pyar Ka Ehsaas Shayari In Hindi | प्यार का एहसास कराने वाली शायरी


Pyar Ka Ehsaas Shayari In Hindi | प्यार का एहसास कराने वाली शायरी
Pyar ka ehsaas shayari in hindi image

Table of content


  1. प्यार का एहसास कराने वाली शायरी
  2. पहले प्यार का एहसास शायरी
  3. तेरे होने का एहसास शायरी
  4. दूरी का एहसास शायरी
  5. अपनी गलती का एहसास शायरी
  6. दर्द का एहसास शायरी
  7. अपनेपन का एहसास शायरी


प्यार का एहसास कराने वाली शायरी


महसूस होता है जरुर कुछ तो,

किसी अजनबी से ज्यादा बातें करते वक़्त,

कही प्यार तो नहीं हुआ है मुझे उनसे,

ये एहसास जरूर होता है उनसे बातें करते वक़्त।


Mehsoos hota hai jarur kuch to,

Kisi ajnabi se jyada batein karte waqt,

Kahi pyar to nahi hua hai mujhe unse,

Ye ehsaas jarur hota hai unse batein karte waqt..!

#


तुमसे पहली बार मिला मै,

पहली मुलाकात में दोस्त बन गया मै,

कुछ वक़्त साथ बिताकर जब घर आया मै,

आपके तो प्यार में ही पड़ गया मै।


Tumse pehli bar mila mai,

Pehli mulakat me dost ban gaya mai,

Kuch waqt sath bitakar jab ghar aaya mai,

Aapke to pyar me hi pad gaya mai..!

#


आँखों ही आँखों में इशारा क्या हो गया,

मैं तो आपके प्यार में ही खो गया,

अब तो मिलना ही पड़ेगा आपसे,

यह कैसा एहसास आपने दिला दिया।


Aankho hi aankho me ishara kya ho gaya,

Mai to apke pyar me hi kho gaya,

Ab to milna hi padega aapse,

Yeh kaisa ehsaas aapne dila diya..!

#


रहना था जिसके साथ ज़िन्दगी भर,

वो अकेला छोड़ गया मुझे,

सच्चा प्यार क्या होता है,

इसका एहसास दिला गया मुझे।


Rehna tha jiske sath zindagi bhar,

Wo akela chod gaya mujhe,

Sachha pyar kya hota hai,

Iska ehsaas dila gaya mujhe..!

#


दिल की आवाज़ जब कानोंपर आयी मेरे,

समझ गया मैं ये प्यार का एहसास है,

जिसने दिल चुराया था मेरा,

वो यहीं कहीं आस पास है।


Dil ki awaz jab kanopar aayi mere,

Samajh gaya main ye pyar ka ehsaas hai,

Jisne dil churaya tha mera,

Wo yahi kahin aas paas hai..!

#



पहले प्यार का एहसास शायरी


आज पहली बार प्यार का एहसास हुआ है,

किसी के साथ बातें करके,

कितना पास बैठा था मैं उनके,

कही ये मेरा पहला और आखरी प्यार तो नहीं।


Aaj pehli baar pyar ka ehsaas hua hai,

Kisi ke sath baatein karke,

Kitna paas baitha tha mai unke,

Kahi ye mera pehla aur akhri pyar to nahi..!

#


शर्माती थी वो हमे देख के,

शर्माके मुस्कुराया करती थी,

शायद वो हमसे प्यार करती थी,

लेकिन बोलने से डरती थी।


Sharmati thi wo hume dekh ke,

Sharmake muskuraya karti thi,

Shayad wo humse pyar karti thi,

Lekin bolne se darti thi..!

#


रोज तेरा पीछे मुड़ कर मुझे देखना,

हमे पहले समझ ही नहीं आया था,

लेकिन आज तेरा पीछे मुड़ कर देखने का अंदाज़ कुछ अलग था,

आज तेरा पीछे मुड़ कर मुझे देख के मुस्कुराने का अंदाज़ अलग था।


Roj tera piche mud kar mujhe dekhna,

Hume pehle samajh hi nahi aaya tha,

Lekin aaj tera piche mud kar dekhne ka andaz kuch alag tha,

Aaj tera piche mud kar mujhe dekh ke muskurane ka andaz alag tha..!

#


दोस्तों ने मिला दिया मुझे उनसे,

मैंने हाथ मिला कर दोस्ती भी करली उनसे,

शायद पसंद आ गयी थी मुझे वो पहली नज़र में,

मैंने दोस्ती को डिलीट कर,

प्यार का इज़हार किया उनसे।


Dosto ne mila diya mujhe unse,

Maine hath mila kar dosti bhi karli unse,

Shayad pasand aa gayi thi mujhe wo pehli nazar me,

Maine dosti ko delete kar,

Pyar ka izhaar kiya unse..!

#


कभी दूर तो कभी पास,

होते है कुछ लोग हमसे,

फिर भी दिल के पास होते है वो,

और प्यार का एहसास दिलाते है वो।


Kabhi door to kabhi paas,

Hote hai kuch log humse,

Phir bhi dil ke paas hote hai wo,

Aur pyar ka ehsaas dilate hai wo..!

#



तेरे होने का एहसास शायरी


मेरे दिल के करीब हुआ करते थे,

वो मुझे छोड़ कर दूर चले गए,

तेरे पास होने का एहसास आज भी होता है मुझे,

बस तेरी याद दिलाता है मुझे।


Mere dil ke karib hua karte the,

Wo mujhe chhod kar door chale gaye,

Tere paas hone ka ehsaas aaj bhi hota hai mujhe,

Bas teri yaad dilata hai mujhe..!

#


तू रोज़ मेरे सपनो में आती है,

मेरा नाम लेकर चली जाती है,

तेरी याद मुझे रोज सताती है,

तेरे होने का एहसास दिलाती है।


Tu roj mere sapno me aati hai,

Mera naam lekar chali jati hai,

Teri yaad mujhe roj satati hai,

Tere hone ka ehsaas dilati hai..!

#


दूरियां भी जरुरी होती है,

पास आने के लिए,

सपने देखना भी जरुरी होता है,

तेरे होने का एहसास दिलाने के लिए।


Dooriyan bhi jaruri hoti hai,

Paas aane ke liye,

Sapne dekhna bhi jaruri hota hai,

Tere hone ka ehsaas dilane ke liye..!

#


नज़रों ने नज़रों को घेर लिया,

मुझे आज तुमसे मिला दिया,

ये प्यार तो अब तुमसे मुझको हो गया,

तेरे पास होने का एहसास अब मुझे हो गया।


Nazron ne nazron ko gher liya,

Mujhe aaj tumse mila diya,

Ye pyar to ab tumse mujhko ho gaya,

Tere paas hone ka ehsaas ab mujhe ho gaya..!

#


अचानक तू मुझे छोड़ कर चली गयी,

मेरा दिल तोड़ के तू चली गयी,

तब भी तेरे होने का एहसास हो रहा था,

पता नहीं ये हकीकत थी या,

मेरे साथ मजाक हो रहा था।


Achanak tu mujhe chhod kar chali gayi,

Mera dil tod ke tu chali gayi,

Tab bhi tere hone ka ehsaas ho raha tha,

Pata nahi ye hakikat thi ya,

Mere sath majak ho raha tha..!

#



दूरी का एहसास शायरी


जब एक दूजे से दूर चले गए हम,

तब रोज तेरी यादों में खोया रहता था,

अचानक तेरी यादों ने भी दूरियां बना ली मुझसे,

तब तेरी दूरी का एहसास मुझे होने लगा था..!


Jab ek duje se door chale gaye hum,

Tab roj teri yaadon me khoya rehta tha,

Acahnak teri yaadon ne bhi duriyan bana li mujhse,

Tab teri doori ka ehsaas mujhe hone laga tha..!

#


दूरियां मिटा के पास आना चाहता था मैं,

तुमने साथ नहीं दिया मेरा,

होने लगा है तुझसे दूर जाने का एहसास मुझे,

दूर न जाओ अपना बनालो न मुझे।


Dooriyan mita ke paas aana chahta tha mai,

Tumne sath nahi diya mera,

Hone laga hai tujhse door jane ka ehsaas mujhe,

Door na jao apna banalo na mujhe..!

#


कभी छोड़ कर न जाना तुम मुझको,

दोबारा प्यार करने की मेरी कोई ख्वाहिश नहीं,

मुझसे दूर जाकर तुम,

तेरे दूर जाने का एहसास मत दिलाओ मुझको।


Kabhi chod kar na jana tum mujhko,

Dobara pyar karne ki meri koi khwahish nahi,

Mujhse door jakar tum,

Tere door jane ka ehsaas mat dilao mujhko..!

#


इस कदर प्यार करते थे हम तुझको,

की तेरे मुझसे दूर जाने पर भी भुला नहीं,

तेरे दूर जाने का एहसास होता है मुझे अब,

सिर्फ प्यार के खातिर मैं तुझको भुला नहीं।


Iss kadar pyar karte the hum tujhko,

Ki tere mujhse door jane par bhi bhula nahi,

Tere door jane ka ehsaas hota hai mujhe ab,

Sirf pyar ke khatir mai tujhko bhula nahi..!

#


दुरी का एहसास किसको है,

जब लोग इसको आज मानते ही नहीं,

जिसे जाना है आज छोड़ कर,

वो जाता है अपनी मर्ज़ी से।


Duri ka ehsaas kisko hai,

Jab log isko aaj hi mante hi nahi,

Jise jana hai aaj chhod kar,

Wo jata hai apni marzi se..!

#



अपनी गलती का एहसास शायरी


अपनी गलती का एहसास क्या करना,

इस ज़माने में ये गुनाह है,

किसी और की तलाश जारी रखना,

ज़माने का यही उसूल है।


Apni galti ka ehsaas kya karna,

Iss zamane mein ye gunah hai,

Kisi aur ki talash jari rakhna,

Jamane ka yahi usool hai..!

#


गलती किसी और ने की है,

क्यों तुम पछताते हो,

दुनिया बहुत बड़ी है यारो,

किसी और को तुम आज़मा लो।


Galti kisi aur ne ki hai,

Kyu tum pachtate ho,

Duniya bahut badi hai yaro,

Kisi aur ko tum aazma lo..!

#


किस पन्ने पर लिखा है,

कैसे संभाला जाये प्यार को,

प्यार तो होता है दिल से,

गलती को तुम भी एक बार आज़मा लो।


Kis panne par likha hai,

Kaise sambhala jaye pyar ko,

Pyar to hota hai dil se,

Galti ko tum bhi ek baar azma lo..!

#


अपनी गलती मान लो तुम,

हो अगर ये प्यार में,

नहीं होगी ग़लती प्यार में,

तो भूलने का रास्ता तुम खोज लो।


Apni galti man lo tum,

Ho agar ye pyar me,

Nahi hogi galti pyar me,

To bhulne ka rasta tum khoj lo..!

#


गलती होती है सबसे,

प्यार में हो या किसी काम में,

अगर करता प्यार तुमसे है बन्दा,

तो माफ़ी भी होती है प्यार में।


Galti hoti hai sabse,

Pyar me ho ya kisi kaam me,

Agar karta pyar tumse hai banda,

To mafi bhi hoti hai pyar me..!

#



दर्द का एहसास शायरी


दर्द चाहे किसी ग़ैरों ने दिया हो,

है गैर हमारा ही हमदम,

बुरा न मानो उस हमदम का तुम,

दर्द का एहसास दिलाया है उस हमदर्द ने।


Dard chahe kisi gairon ne diya ho,

Hai gair hamara hi humdam,

Bura na mano us hamdam ka tum,

Dard ka ehsaas dilaya hai us hamdard ne..!

#


कोई दूर चला गया है,

कोई पास आया है,

इस दर्द का एहसास हमे,

सिर्फ अपनों ने ही दिलाया है।


Koi door chala gaya hai,

Koi paas aaya hai,

Is dard ka ehsaas hume,

Sirf apno ne hi dilaya hai..!

#


झूठ बोलने पर वो,

गयी मुझे छोड़ कर,

समझ न पायी मेरे प्यार को,

मजबूरी बताती है उसकी, 

मेरे सच्चे प्यार को।


Jhoot bolne par wo,

Gayi mujhe chhod kar,

Samajh na payi mere pyar ko,

Majboori batati hai uski, 

Mere sache pyar ko..!

#


छोड़ दिया था मैंने उसको,

एक दिन बस स्टैंड पर,

तभी समझ गया था मैं उसको,

इग्नोर कर रही थी वो उस दिन मुझे बस स्टैंड पर।


Chhod diya tha maine usko,

Ek din bus stand par,

Tabhi samjh gya tha mai usko,

Ignore kar rahi thi wo us din mujhe bus stand par..!

#


दर्द हुआ था उस दिन मुझको,

जब वो मुझसे बातें ना करती थी,

रो रही थी वो उसके घर पर,

लेकिन बात मुझसे न करती थी।


Dard hua tha us din mujhko,

Jab wo mujhse baatein naa karti thi,

Ro rahi thi wo uske ghar par,

Lekin baat mujhse na karti thi..!

#



अपनेपन का एहसास शायरी


अपनापन किसे कहूं आज मैं,

जो छोड़ गया मुझे अकेला,

या कहु उसे मै धोकेबाज़,

अपनेपन का एहसास कौन देगा मुझे,

मेरे दोस्तों के अलावा।


Apnapan kise kahu aaj mai,

Jo chhod gaya mujhe akela,

Ya kahu use mai dhokebaaz,

Apnepan ka ehsaas kaun dega mujhe,

Mere dosto ke alawa..!

#


कुछ दोस्त थे मेरे जिगरी,

उन्होंने मुझे मुश्किल वक़्त में छोड़ दिया,

लेकिन थे वो बचपन के यार मेरे,

यही अपनेपन का एहसास उन्होंने मुझे दे दिया।


Kuch dost the mere jigri,

Unhone mujhe mushkil waqt me chod diya,

Lekin the wo bachpan ke yaar mere,

Yahi apnepan ka ehsaas unhone mujhe de diya..!

#


एहसास तो होता है प्यार का,

जो पहली बार का होता है,

अपनेपन का एहसास तो बस,

प्यार करने वालो को ही होता है।


Ehsaas to hota hai pyar ka,

Jo pehli baar ka hota hai,

Apnepan ka ehsaas to bas,

Pyar karne walo ko hi hota hai..!

#


इस ज़माने में लोग बदल से गए है,

उन्हें अपना भी समझ में नहीं आता,

क्या बोलोगे इसपर तुम,

एहसास अपनेपन का लोगो को समझ में नहीं आता।


Iss zamane me log badal se gaye hai,

Unhen apna bhi samajh me nahi aata,

Kya bologe ispar tum,

Ehsaas apnepan ka logo ko samajh me nahi aata..!

#


जब दूर जाते है अपने हमसे,

तब जाने देते है हम,

जब काम पड़ता है उनसे,

तब उन्हें ही याद करते है हम।


Jab dur jate hai apne humse,

Tab jane dete hai hum,

Jab kaam padta hai unse,

Tab unhen hi yaad karte hai hum..!

#



इसे भी पढ़े : 



कुछ आखरी शब्द :


आज जो हमने  pyar ka ehsaas shayari in hindi पर लेख लिखा है, वो आपने पूरा पढ़ ही लिया होगा, अगर नही पढा तो जरूर पढ़कर हमे बताओ कि आपको इस प्यार का एहसास कराने वाली शायरी के लेख में किस तरह का एहसास हुआ था आपको, क्या आपको कभी एहसास हुआ उसका समझ रहे हो ना जरूर बताना।


आशा करता हु की हमारा ये पहले प्यार का एहसास शायरी का लेख आपको जरूर अच्छा लगा होगा, अगर अच्छा लगा हो तो ऐसेही हिंदी शायरी यहाँ पढ़ते रहे।

एक टिप्पणी भेजें