Nafrat Bhari Shayari In Hindi | नफरत पर शायरी

आज हमने nafrat bhari shayari hindi का बेहद खास लेख लिखा है, जो आपको बहुत ही पसंद आनेवाला है, जिसमे हमने नफरत पर बेहतरीन शायरी लिखी है, nafrat shayari

दोस्तो, आज हमने nafrat bhari shayari hindi का बेहद खास लेख लिखा है, जो आपको बहुत ही पसंद आनेवाला है, जिसमे हमने नफरत पर बेहतरीन शायरी लिखी है, अगर आप से कोई नफरत करता है तो वो आप प्यार में भी बदल सकते है, ऐसी शायरियां आज आपको इस लेख में पढ़ने मिलेगी।


 इस बड़ी सी दुनिया मे कई इंसान रहते है, जो एक दूजे से प्यार भी करते है, और नफरत भी करते है, ऐसा क्या है जो एक इंसान दूसरे इंसान से इतनी नफरत करता है, शायद किसीका दिल दुखाया हो उस इंसान ने तो ऐसा बहुत देखने को मिलता है, तो यार नफरत में क्या रखा है, सबकुछ तो प्यार से ही होता है।


आगर कोई इंसान आपसे बहुत ज्यादा नफरत करता हो, तो उसे इस नफरत भरी शायरी इन हिंदी के लेख में से एक शायरी जरूर सुना देना, शायद उसके बाद वो इंसान आपसे प्यार करने लगे या फिर उसके गलती का एहसास उसे हो जाये।


Nafrat Bhari Shayari In Hindi | नफरत पर शायरी


Nafrat Bhari Shayari In Hindi | नफरत पर शायरी
Nafrat bhari shayari hindi

Table of content


  1. Nafrat bhari shayari hindi
  2. Nafrat ki duniya shayari in hindi
  3. Nafrat shayari 2 line in hindi
  4. झूठ से नफरत शायरी
  5. प्यार से नफरत शायरी इन हिंदी
  6. Nafrat shayari for girlfriend in hindi


Nafrat bhari shayari hindi


किसी से प्यार करना हो,

तो बड़े शिद्दत से करते हो,

नफरत भी वैसे ही किया करो,

ज़िन्दगी में कोई रुला नहीं पायेगा तुम्हे।


Kisi se pyar karna ho,

To bade shiddat se karte ho,

Nafrat bhi vaise hi kiya karo,

Zindagi me koi rula nahi payega tumhe..!

#


नफरत है तुमसे कहने वालों,

प्यार है तुमसे भी कहा करो,

किसी की गलती को माफ़ कर दिया करो,

थोड़ा प्यार से समझाया करो।


Nafrat hai tumse kehne walon,

Pyar hai tumse bhi kaha karo,

Kisi ki galti ko maff kar diya karo,

Thoda pyar se samjhaya karo..!

#


गुस्सा आता है मुझे भी और तुम्हे भी,

आखिर इंसान ही तो है हम,

गलती इंसान से ही होती है,

फिर एक दूजे से नफरत क्यों करते है हम।


Gussa aata hai mujhe bhi aur tumhe bhi,

Akhir insaan hi to hai hum,

Galti insaan se hi hoti hai,

Phir ek duje se nafrat kyu karte hai hum..!

#


किसी का प्यार देखा होगा तुमने,

किसी की नफरत नहीं देखी होगी,

प्यार तो सपने दिखाता है हमें,

लेकिन नफरत प्यार को ही मार डालती है।


Kisi ka pyar dekha hoga tumne,

Kisi ki nafrat nahi dekhi hogi,

Pyar to sapne dikhata hai hume,

Lekin nafrat pyar ko hi mar dalti hai..!

#



Nafrat ki duniya shayari in hindi


किसी से कितना भी प्यार करो,

दुनिया प्यार को कहा समझती है,

यहाँ सिर्फ नफरत की चलती है,

इसीलिए तो कहते है नफरत की दुनिया।


Kisi se kitna bhi pyar karo,

Duniya pyar ko kaha samjhti hai,

Yaha sirf nafrat ki chalti hai,

Isiliye to kehte hai nafrat ki duniya..!

#


दुनिया में सिर्फ प्यार बाँटो,

नफरत बाँटने से क्या मिलेगा,

किसी के बारे में अच्छा सोचो,

बुरा सोचने से क्या मिलेगा।


Duniya me sirf pyar baton,

Nafrat batne se kya milega,

Kisi ke bare me achha socho,

Bura sochne se kya milega..!

#


इस दुनिया में कुछ भी हो सकता है,

किसी से प्यार भी हो सकता है,

तो किसी से नफरत भी,

प्यार हो या नफरत भुगतता तो है इंसान ही।


Iss duniya me kuch bhi ho sakta hai,

Kisi se pyar bhi ho sakta hai,

To kisi se nafrat bhi,

Pyar ho ya nafrat bhugatta to hai insaan hi..!

#


भले ही नफरत करे ये दुनिया तुमसे,

तुम सिर्फ प्यार ही करना,

प्यार की ताकत,

नफरत से बड़ी होती है।


Bhale hi nafrat kare ye duniya tumse,

Tum sirf pyar hi karna,

Pyar ki takat,

Nafrat se badi hoti hai..!

#



Nafrat shayari 2 line in hindi


कहती हो तुम मुझसे नफरत करती हो,

फिर क्यों चुप चुप के हमे देखा करती हो।


Kehti ho tum mujhse nafrat karti ho,

Phir kyu chup chup ke hume dekha karti ho..!

#


नफरत तो है मुझे आपसे,

लेकिन ये दिल है की मानता ही नहीं।


Nafrat to hai mujhe aapse,

Lekin ye dil hai ki manta hi nahi..!

#


कुछ भी बोलो तो गुस्सा करती हो तुम,

क्या इतनी नफरत करती हो मुझसे तुम।


Kuch bhi bolo to gussa karti ho tum,

Kya itni nafrat karti ho mujhse tum..!

#


तेरी नफरत को प्यार में बदलना मुझे आता है,

तेरा हाथ पकड़कर तुझे बाहों में भरना मुझे आता है।


Teri nafrat ko pyar me badalna mujhe aata hai,

Tera hath pakadkar tujhe bahon me bharna mujhe aata hai..!

#



झूठ से नफरत शायरी


झूठ से इतनी ही नफरत करते हो,

तो किसी से झूठा प्यार क्यों करते हो,

कहते हो की हम आपसे बहुत प्यार करते है,

और अपनी मजबूरी बताकर हमेशा के लिए प्यार को छोड़ जाते हो।


Jhoot se itni hi nafrat karte ho,

To kisi se jhoota pyar kyon karte ho,

Kehte ho ki hum aapse bahut pyar karte hai,

Aur apni majboori batakar hamesha ke liye pyar ko chhod jate ho..!

#


झूठ से नफरत तो हर कोई करता है,

क्या कोई किसी से सच्चा प्यार करता है,

झूठ भी कोई कोई अच्छे के लिए ही बोलता है,

लेकिन इंसान ही उसे समझ नहीं पाता है।


Jhoot se nafrat to har koi karta hai,

Kya koi kisi se sachha pyar karta hai,

Jhooth bhi koi koi achhe ke liye hi bolta hai,

Lekin insaan hi use samajh nahi pata hai..!

#


लोग कहते है,

की झूठ से नफरत है मुझे,

लेकिन वो लोग कभी न कभी झूठ बोलते है,

गलती तो इंसान ही करते है।


Log kehte hai,

Ki jhoot se nafrat hai mujhe,

Lekin wo log kabhi na kabhi jhoot bolte hai,

Galti to insaan hi karte hai..!

#


तुझसे सच्चा प्यार किया था मैंने,

भले ही तुमसे कुछ बातें झूठ बोली हो,

शायद तुम समझ नहीं पाई मुझे,

इसीलिए तुम मुझे छोड़ गयी हो।


Tujhse sachha pyar kiya tha maine,

Bhale hi tumse kuch batein jhoot boli ho,

Shayad tum samajh nahi payi mujhe,

Isiliye tum mujhe chhod gayi ho..!

#



प्यार से नफरत शायरी इन हिंदी


प्यार मैंने किया था तुमसे,

वो सच्चा वाला प्यार था,

जबसे तुम मुझे छोड़ के चली गयी,

प्यार से नफरत हो गयी।


Pyar maine kiya tha tumse,

Wo sachha wala pyar tha,

Jabse tum mujhe chhod ke chali gayi,

Pyar se nafrat ho gayi..!

#


किसी से प्यार किया करो,

तो मरते दम तक किया करो,

प्यार को बदलते रहोगे,

तो एक दिन प्यार से नफरत हो जाएगी।


Kisi se pyar kiya karo,

To marte dam tak kiya karo,

Pyar ko badalte rahoge,

To ek din pyar se nafrat ho jayegi..!

#


प्यार से मुझे नफ़रत हो गयी है आज,

किसी ने मेरे दिल के साथ जो खेला है,

हमने उसे बहुत देर तक झेला है,

हमने झूठे प्यार को आजमाया है।


Pyar se mujhe nafrat ho gayi hai aaj,

Kisi ne mere dil ke sath jo khela hai,

Humne use bahut der tak jhela hai,

Humne jhoote pyar ko aajmaya hai..!

#


बहुत कोशिश की हमने,

उनके नफरत को प्यार में बदलने की,

शायद प्यार ही नहीं था उनको हमसे,

मुझसे बात बात पर जो झगड़ती थी,

मेरी एक भी नहीं सुनती थी।


Bahut koshish ki humne,

Unke nafrat ko pyar me badalne ki,

Shayad pyar hi nahi tha unko humse,

Mujhse baat baat par jo jhgdti thi,

Meri ek bhi nahi sunti thi..!

#



Nafrat shayari for girlfriend in hindi


तुझसे नफरत तो करता हु मै,

पर प्यार उससे ज्यादा करता हु,

तुम दूर भले ही हो मुझसे,

लेकिन दिल के पास तुम्हे महसूस करता हु।


Tujhse nafrat to karta hu mai,

Par pyar usse jyada karta hu,

Tum dur bhale hi ho mujhse,

Lekin dil ke paas tumhe mehsoos karta hu..!

#


तुम्हारी याद बहुत आती है मेरी जान,

कही तुम मुझे याद तो नहीं कर रहे,

गुस्सा तो बहुत हो तुम मुझसे,

कही मुझसे नफरत तो नहीं कर रहे।


Tumhari yaad bahut aati hai meri jaan,

Kahi tum mujhe yaad to nahi kar rahe,

Gussa to bahut ho tum mujhse,

Kahi mujhse nafrat to nahi kar rahe..!

#


एक तू ही तो है मेरी ज़िन्दगी,

तू ही है मेरा ठिकाना,

अगर तुम ही मुझसे नफरत करने लग गए,

तो जायेगा कहा ये तुम्हारा आशिक़ दीवाना।


Ek tu hi to hai meri zindagi,

Tu hi hai mera thikana,

Agar tum hi mujhse nafrat karne lag gaye,

To jayega kaha ye tumhara ashiq deewana..!

#


हम तुमसे नफरत करते है,

तुम्हारी आँखों से नहीं,

और नहीं तुम्हारे प्यारे होठों से,

तो आओ हटाओ इस नफरत को,

मिलते है गले हम एक दूजे के।


Hum tumse nafrat karte hai,

Tumhari ankhon se nahi,

Aur nahi tumhare pyare hothon se,

To aao hatao iss nafrat ko,

Milte hai gale hum ek duje ke..!

#


इसे भी पढ़े : 



कुछ आखरी शब्द :


आज जो हमने nafrat bhari shayari in hindi पर लेख लिखा है, वो आपने पूरा पढ़ ही लिया होगा, अगर नही पढा तो जरूर पढ़कर हमे बताओ कि आपको इस नफरत की शायरी इन हिंदी का लेख कैसा लगा।


आशा करता हु की हमारा ये shayari on nafrat in hindi का लेख आपको जरूर अच्छा लगा होगा, अगर अच्छा लगा हो तो ऐसेही हिंदी शायरी यहाँ पढ़ते रहे।

एक टिप्पणी भेजें