दोस्तों, क्या आप जानते है कि हर्निया ऑपरेशन के बाद सावधानियां ( precautions after hernia ऑपरेशन ) बरतना कितना जरूरी हो जाता है, इस आर्टिकल मे आपको ये पढ़ने मिलेगा, जोकि हर्निया से आप जल्दी से जल्दी निजात पा सकते।


कुछ लोगों को पता भी नही होता कि आखिर ये हर्निया क्या है ? जब लोग बताते है कि, मेरा हर्निया का ऑपरेशन हुआ तब कुछ लोग सोच विचार में पड़ जाते है, ऐसे लोगों को ये जानना जरूर है कि हर्निया एक आम समस्या है, लेकिन इसे नजरअंदाज करने से ये आपको नुकसान पोहचा सकती है, इसके कारण और लक्षण जानना जरूरी है, जिससे हर्निया की समस्या से बचा जा सकता है।


बहुत से लोग होते है जिन्हें हर्निया की समस्या होती है, और वो जानना चाहते है कि, हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है ? तो आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ये जानकारी जरूर मिलेगी की हर्निया के ऑपरेशन दो प्रकार से होते है, जिन्हें हमने इस आर्टिकल में संक्षिप्त में समझाया गया है, जोकि आपको जानना बहुत ही जरूरी है।


हर्निया ऑपरेशन के बाद आप कौनसी कसरत (exercise) कर सकते है ये भी हमने इस आर्टिकल में समझाया है, की आप हल्की कसरत करे या भारी कसरत करे, योगासन करे या ना करे ये सभी आपके सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में पढ़ने मिलेंगे।


तो चलो जानते है की, hernia operation ke baad रखी जाने वाली 9 savdhaniya जो आपको हर्निया से जल्द छुटकारा देने में मददगार साबित होती है।



हर्निया ऑपरेशन के बाद क्या सावधानियां बरतें | precautions after hernia operation in hindi


हर्निया ऑपरेशन के बाद क्या सावधानियां बरतें | कैसे होता है हर्निया का ऑपरेशन?
hernia operation ke baad savdhaniya hindi tips

Table of content




हर्निया क्या है ? ( What is hernia ?)


बहुत कम ही लोग होते है जो हर्निया जैसी बीमारी को लेकर जागरूक रहते है। कुछ लोग तो जानते ही नही की हर्निया क्या है ? हर्निया एक ऐसी बीमारी है जो एक आम समस्या है, जो पुरुष और महिला दोनो मे ये समस्या देखने को मिलती है, लेकिन इसे कही लोग नजरअंदाज करते है बिना लक्षण और कारण जाने।


हर्निया की समस्या तब होती है जब शरीर के भीतरी हिस्से के अंग या मासपेशी किसी कमजोर आंत या पेट की दीवार की छेद की मदद से बाहर की तरफ आते है तो शरीर पर एक अलग ही उभार दिखता है उसे ही हर्निया कहते है।


अगर शरीर के भीतरी किसी अंग के मसल्स कमजोर हो जाते है और वहां ज्यादा प्रेशर पड़ता जा रहा है तो शरीर के अंदर की कमजोर झिल्ली फट जाती है, और हर्निया जैसी समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है, जिससे चलने में दिक्कत और तेज दर्द का सामना करना पड़ता है।



हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है? 


सभी जानना चाहते है कि हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है ? तो अपको बता दु की हर्निया के ऑपरेशन करने के दो प्रक्रियाएं होती है :


1. ओपन सर्जरी (open surgery)


ओपन सर्जरी (open surgery) में मरीज को ठीक होने में ज्यादा समय लगता है, इसीलिए मरीज को कुछ दिन हॉस्पिटल में ही एडमिट रहना पड़ सकता है, और डॉक्टर के कहने पर आपको छूट्टी दी जाती है।


अगर सर्जरी की बात करे तो जो जगह हर्निया से प्रभावित हुई है वहा की जगह सर्जरी के पहले सुन्न कर दी जाती है, उसके बाद उस जगह पर एक बड़ा सा कट लगाकर जो शरीर का भीतरी अंग बाहर की तरफ आया है उसे पुनः जैसा भीतर कर दिया जाता है, हर्निया का ऑपरेशन कुछ इस तरह होता है, जोकि सामान्य ऑपरेशन की तरह ही होता है।


ओपन सर्जरी प्रक्रिया में मरीज को दर्द का सामना करना पड़ता है, और ऑपरेशन के बाद कुछ एक सप्ताह तक हॉस्पिटल में ही एडमिट रहना पड़ सकता है, क्योंकि ओपन सर्जरी होने के बाद डॉक्टर आराम करने की सलाह देते है।



2. लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (laparoscopic surgery)


लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (laparoscopic surgery) में मरीज को ठीक होने मे ओपन सर्जरी प्रक्रिया के मुकाबले काफी कम समय लगता है, इसीलिए लेप्रोस्कोपिक सर्जरी काफी अच्छी मानी जाती है। लेप्रोस्कोपिक सर्जरी करने के बाद 2 दिन के भीतर ही हॉस्पिटल से छुट्टी मिल जाती है।


अगर ऑपरेशन करने की बात करे तो लेप्रोस्कोपिक सर्जरी की प्रक्रिया में हर्निया की प्रभावित जगह पर एक छोटासा कट करते है, और एक ट्यूब और छोटे कैमरा के मदद से ये ऑपरेशन किया जाता है, जोकि बहुत ही छोटे उपकरण होते है, जिससे प्रभावित जगह के भीतर डालकर उस जगह को देखने मे डॉक्टर को कोई कठिनाइयां नही होती जिससे बाहर की तरफ आया हुआ अंग पुनः अपनी जगह पर कर दिया जाता है।


इस ऑपरेशन की प्रक्रिया में बहुत कम समय के साथ साथ दर्द और ब्लीडिंग भी कम मात्रा में होता है। 




हर्निया ऑपरेशन के बाद सावधानियां | precautions after hernia operation in hindi


हर्निया ऑपरेशन के बाद सावधानियां बरतना आपके लिए फायदेमंद होता है, जिससे आपको होनेवाला दर्द कम होता है, और जल्द से जल्द आप हर्निया से रिकवर हो सकते है, इसीलिए नीचे दिए गए हर्निया के ऑपरेशन के बाद ली जाने वाली 9 सावधानियां आपको जरूर पढ़ना चाहिए।


1.कब्ज की समस्या से बचे :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद कब्ज की समस्या होने से बचे, अगर आपका पेट हमेशा खराब रहता है और बार बार आप शौचालय जाते हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह ले, जिससे कब्ज जैसी बीमारी से बचा जा सकता है, क्योंकि बार बार शौचालय जाने से आपके पेट पर काफी ज्यादा प्रेशर आता है, जिससे ऑपरेशन के टांको के टूटने का खतरा रहता है।


कब्ज की बीमारी से बचने के लिए आप रोज ताजे फल और सब्जी का सेवन करे, जिससे शरीर को विटामिन्स मिलते रहे, और कब्ज और अन्य बीमारी को दूर रखा जा सकता है।


2.खांसी से बचे :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद आपको बार बार खांसी आ रही है तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। बार बार खांसी आने से खतरा बढ़ सकता है, इसका कारण ये है कि खांसी या छींकने से आपके पेट पर उसका प्रेशर आता है, और आपको ज्यादा दर्द होता है इससे आपका खतरा बढ़ जाता है।


खांसी बार बार होती है या खांसी जैसा महसूस करते हो तो इसका इलाज तुरंत करे।


3.भारी वजन ना उठाएं :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद अगर आप भारी वजन उठाते हो तो ये आपके लिए नुकसानदेह होता है, अगर आप जिम जाने के शौकीन है तो इसे हर्निया के आपरेशन के बाद तुरंत रोक दीजिये, क्योंकि भारी वजन उठाने से आपके पेट पर उसका भार आता है, और टाके निकलने लगते है।


आप 5 से 6 महीने तक जिम नाही जाए तो ही अच्छा है, उसके बाद आप डॉक्टर की सलाह ले कर जिम जा सकते है।


4.वजन को कंट्रोल में रखे :


वजन कंट्रोल में रखना आपके लिए अच्छा होता है, अगर आप हर्निया के मरीज हो और आपने हर्निया का ऑपरेशन अभी किया है तो आपको आपका वजन कम ही रखना होगा, ऑपरेशन के बाद आपको 7 से 10 दिन तक हल्का खाना ही खाये, जिससे वजन को नियंत्रित किया जा सकता है।


वजन को नियंत्रित रखने से आपके पेट पर ज्यादा प्रेशर नही आएगा, और टांके निकलने का खतरा नही रहेगा। ऐसा कोई भी काम ना करे जिससे पेट पर प्रेशर आये।


5.सिगरेट और शराब ना पिए :


अगर आप हर्निया की समस्या से जल्दी ठीक होना चाहते हो तो हर्निया के ऑपरेशन के बाद आप सिगरेट्स, शराब, गुटखा जैसे नशीली पदार्थों का सेवन कुछ महीने नाही करे तो अच्छा है, इस नशीली पदार्थों में कुछ हानिकारक पदार्थों के कारण आपकी रिकवर होने में बाधा हो सकती है, आप हर्निया की समस्या से जल्दी छुटकारा नही पा सकोगे।


हर्निया से जल्दी निजात पाने के लिए कुछ महीने आपको सिगरेट और अन्य नशीली चीजो का सेवन नही करना चाहिए।


6.समय पर दवाइयों का सेवन करे :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद डॉक्टर ने बताई गई दवाइयों का सेवन समय पर करना जरूरी होता है, इससे आप हर्निया की समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा पा सकते हो, इसीलिए हर्निया ऑपरेशन के बाद सावधानियां बरतना आपके लिए जल्दी स्वस्थ होनेका एक जरिया है।


समय पर दवाई लेने के साथ साथ डॉक्टर की सलाह लेते रहने से आप के स्वास्थ में जल्दी सुधार आता है।


7.हल्का भोजन खाये  :


मैने पहले ही बताया है की, हर्निया के ऑपरेशन के बाद आप अगर अधिक मात्रा में खाना खाते हो तो आपके पेट पर प्रेशर आता है, जोकि नुकसान दायक होता है, जिससे पेट के टांके टूटने का खतरा होता है।


इसिलए हल्का भोजन आपके लिए उपयुक्त होता है, जोकि आपका वजन बढ़ने से रोकता है और आपके पेट पर इसका ज्यादा खराब असर नही होता, जो हर्निया मरीज के लिए अच्छा भोजन होता है।


8.ताजे फल और सब्जियों का सेवन करे :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद आपको आपके डाइट में खूब सारे बदलाव करने पड़ते है, जिसमे हल्का खाना खाएं, और खाने में ताजी हरी सब्जियों को शामिल करें इसे आप सलाद के रूप में भी खा सकते हो, उसके साथ साथ ताजे फलों का भी सेवन करे जो आपको पोषक तत्व भरपूर मात्रा में देता है।


9.संभोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले :


ये सवाल ज्यादातर लोगों के मन मे आता है, की हर्निया के ऑपरेशन के बाद संभोग कर सकते है क्या या कब करे ? ऐसे सवाल मन मे आना आम बात है, लेकिन मैं आपको बता दु की कुछ महीने आप संभोग ना करे तो ही अच्छा है, क्योंकि संभोग करने से आपके पेट पर कुछ ज्यादा ही प्रेशर आ सकता है इससे टांके टूटने का खतरा हो सकता है।


संभोग करने से पहले आप डॉक्टर की सलाह जरूर ले, और सलाह के बाद ही इसका निर्णय ले।



हर्निया ऑपरेशन के बाद कौनसी कसरत(exercise) करें :


हर्निया के ऑपरेशन के बाद आप ज्यादा कसरत न करे, जैसे ज्यादा वजन उठाना, भाग दौड़ करना, सीढिया चढ़ना, ज्यादा मेहनत वाले काम ना करे, इससे मासपेशी में प्रेशर आता है और इसका असर पेट पर पड़ता है, जिससे टांके टूटने का खतरा होता है। 


आप कुछ हल्की कसरत (exercise) कर सकते है, जैसे थोड़ी देर धीरे धीरे चलना, जिससे मासपेशियां टाइट नही होगी और पेट के टांके सुरक्षित रहेंगे, कुछ महीनों बाद डॉक्टर की सलाह से आप कसरत कर सकते है।


हर्निया ऑपरेशन के बाद आप योगासन भी कर सकते है, लेकिन डॉक्टर और योगा एक्सपर्ट की सलाह से ही योगा करे इससे आपको फायदा जरूर होगा। क्योंकि डॉक्टर की सलाह से आपको पता चलेगा कि आपको योग कितने दिनों बाद करना है और कौनसे योग आपको करने है, क्युकी कुछ कुछ योगासन हर्निया ऑपरेशन के बाद हानिकारक भी ही सकते है।



पूछे जाने वाले सवाल और उनके उत्तर (FAQ) :


Q.1  हर्निया कैसे ठीक होता है ?

Ans: हर्निया ऑपरेशन करने से ही ठीक होता है, जो दो प्रकार के होते है, पहला ओपन सर्जरी (open surgery) और दूसरा लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (laparoscopic surgery)।


Q.2  हर्निया ऑपरेशन के बाद कैसा भोजन ले ?

Ans: हर्निया ऑपरेशन के बाद हल्का भोजन ही लेना चाहिए, अधिक भोजन न करे।


Q.3  हर्निया शरीर पर कहाँ होता है ?

Ans: हर्निया शरीर पर पेट के नीचे के हिस्से पर और जांघो के बीच के हिस्से पर होता है।


Q.3  हर्निया के ऑपरेशन में कितना खर्च आता है ?

Ans: हर्निया के ऑपरेशन में निजी अस्पताल में लगभग 15 ते 20 हजार रुपये का खर्च आता है।



इस आर्टिकल से हमने क्या बताया और आपने क्या सीखा:


हमने आपको हर्निया ऑपरेशन के बाद सावधानियां (precautions after hernia operation in hindi) कैसे बरती जा सकती है इसके बारे में इस आर्टिकल के माद्यम से बताया है, की हर्निया का ऑपरेशन कैसे होता है? ये सवाल कही लोगों के मन मे आता है जो हर्निया के बीमारी पर जागरूक रहते है, इसके बारे भी आपको बताया गया है।


और हमने इस आर्टिकल के माध्यम से ये सीखा है, की हर्निया ऑपरेशन के बाद हमे ऐसा कोई भी कार्य नही करना है जिससे हमारे पेट पर दबाव (pressure) आये, जिससे हमारे पेट के टांके टूट जाए और हमे उसके नुकसान झेलना पड़े। अच्छा ताजे फल और सब्जी खाये, और डॉक्टर की सलाह लेते रहे, नियमित दवाई खाये, स्वस्थ रहे सुरक्षित रहे।

और नया पुराने