Time Poem In Hindi | समय कविता हिंदी में

स्वागत है आपका time poem in hindi के इस नयी समय कविता की कविता में जिसमे समय के महत्त्व के बारे में बड़ी ही अच्छी तरह से बताया गया है short टाइम कविता

स्वागत है आपका time poem in hindi के इस नयी समय कविता की कविता में जिसमे समय के महत्त्व के बारे में बड़ी ही अच्छी तरह से बताया गया है.


समय क्या है ? और इसका उपयोग आप कैसे करेंगे इसका महत्व इस वक़्त कविता में आपको समझ आएगा जिससे आपको वक़्त का ज्ञान हो जायेगा.


गुज़रा हुआ समय कभी वापस नहीं आता ये बच्चों को समझना जरुरी है इसीलिए समय पर सभी काम करने चाहिए इसीलिए ये short टाइम कविता बच्चों के लिए भी है.


Time Poem In Hindi | समय कविता हिंदी में


Time Poem In Hindi | समय कविता हिंदी में
time poem in hindi image


Time Poem In Hindi

खुद को इतना बलवान तू कर,

समय से पहले ऊँची उड़ान तो भर..!


समय का हो जब तू पालन हारी,

तब आएगी ज़िन्दगी में खुशहाली..!


समय को तुम कभी न ठुकराना,

उसके साथ चलने की कोशिश तुम करना..!


खुद को इतना बलवान तू कर,

समय से पहले ऊँची उड़ान तो भर..!


बुरा समय आते जाते है रहते,

सामना कर डटकर तू उसका..!


इस दुनिया में किसी का कोई न होता,

ये समय हमको है सिखलाता..!


खुद को इतना बलवान तू कर,

समय से पहले ऊँची उड़ान तो भर..!


समय रहते करो तुम सब काम,

मत कर किसी का इंतज़ार..!


गया वक़्त ना आये काम,

फिर हो जाओगे तुम बेजान..!


खुद को इतना बलवान तू कर,

समय से पहले ऊँची उड़ान तो भर..!


बेजानो में तुम जान भर डालो,

वक़्त के साथ चलना सिख जाओ..!


वक़्त का ज्ञान सबको सिखलाओ,

कामयाबी के कदम तुम चुमते जाओ..!


खुद को इतना बलवान तू कर,

समय से पहले ऊँची उड़ान तो भर..!



Poems on time in hindi


Khud ko itna balwan tu kar,

Samay se pahle unchi udaan tu bhar..!


Samay ka ho jab tu palan haari,

Tab aayegi zindagi me khushhali..!


Samay ko tum kabhi na thukrana,

Uske sath chalne ki koshish tum karna..!


Khud ko itna balwan tu kar,

Samay se pahle unchi udaan tu bhar..!


Bura samay aate jate hai rahte,

Samna kar datkar tu uska..!


Iss duniya me kisi ka koi na hota,

Ye samay hamko hai sikhlaata..!


Khud ko itna balwan tu kar,

Samay se pahle unchi udaan tu bhar..!


Samay rehte karo tum sab kam,

mat kar kisi ka intezar..!


Gaya waqt na aaye kam,

Phir ho jaoge tum bejaan..!


Khud ko itna balwan tu kar,

Samay se pahle unchi udaan tu bhar..!


Bejaano me tum jaan bhar dalo,

Waqt ke sath chalna sikh jao..!


Waqt ka gyan sabko sikhlao,

Kamyabi ke kadam tum chumte jao..!


Khud ko itna balwan tu kar,

Samay se pahle unchi udaan tu bhar..!



समय का महत्व पर कविता


मैं हु समय बता देता हु,

किसी के लिए भी मैं नहीं रुकता हूँ..!


मैंने तुमको जान लिया है,

इसीलिए तो ठान लिया है..!


तुमको मैं ये पाठ पढाऊ,

मैं हूँ बलवान ये बतलाऊं..!


मैं काँटों से भी टकराऊ,

तब भी मैं कही रुक ना जाऊं..!


आंधी तूफ़ान से मैं भीड़ जाऊं,

उससे जीत बहार मैं निकल आऊ..!


सदा आगे मैं चलता जाऊं,

पीछे मूड वापस मैं ना जाऊं..!


सबको साथ में लेकर जाऊं,

यही है तुझको मै बतलाऊ..!


तुम्हारा हित इसमें है आज,

नहीं तो बाकी सब बकवास..!


समय का है सदुपयोग तुम करना,

तरक्की की सीढ़ियां चढ़ते रहना..!


तुमको साथ मेरे है चलना,

सदा तुम खुश ही है रहना..!


मैं हु समय बता देता हु,

किसी के लिए भी मैं नहीं रुकता हूँ..!



Importance of time poem in hindi


Main hu samay bata deta hu,

Kisi ke liye bhi main nahi rukta hu..!


Maine tumko jaan liya hai,

Isiliye to than liya hai..!


Tumko main ye pathh padhauu,

Main hu balwan ye batlauu..!


Main kaanton se bhi takrau,

Tab bhi main kahi ruk na jau..!


Aandhi toofan se main bhid jau,

Usse jeet bahar main nikal aau..!


Main hu samay bata deta hu,

Kisi ke liye bhi main nahi rukta hu..!


Sada aage main chalta jau,

Pichhe mood vapas main na jau..!


Sabko sath main lekar jau,

Yahi hai tujhko mai batlau..!


Tumhara hit isme hai aaj,

Nahi to baaki sab bakwas..!


Samay ka hai sadupyog tum karna,

Tarakki ki sidhiyan chadhate rehna..!


Tumko sath mere hai chalna,

Sada tum khush hi hai rehna..!


Main hu samay bata deta hu,

Kisi ke liye bhi main nahi rukta hu..!



Short poem on time in hindi


वक़्त है थमता नहीं ये,

वक़्त को तुम जान लो..!


नहीं रुकता किस के लिए ये,

इसको तुम पहचान लो..!


वक़्त का आदर करो तुम,

ये सख्त है तुम मान लो..!


वक़्त है थमता नहीं ये,

वक़्त को तुम जान लो..!


साथ चलना सीख लो तुम,

खुद हो क्या तुम ये पहचान लो..!


ज़िन्दगी की हर मोड़ पर,

वक़्त को तुम ही आज़मा लो..!


वक़्त है थमता नहीं ये,

वक़्त को तुम जान लो..!


वक़्त पर तू रख भरोसा,

ऊँचा शिखर तुम जा चढो..!


भूलने ना वक़्त को तुम,

सबको इसका महत्व बताते चलो..!


वक़्त है थमता नहीं ये,

वक़्त को तुम जान लो..!



छोटीसी समय वक़्त पर हिंदी कविता


Waqt hai thamta nahi ye,

Waqt ko tum jaan lo..!


Nahi rukta kis ke liye ye,

Isko tum pehchan lo..!


Waqt ka aadar karo tum,

Ye sakht hai tum man lo..!


Waqt hai thamta nahi ye,

Waqt ko tum jaan lo..!


Sath chalna sikh lo tum,

Khud ho kya tum ye pehchan lo..!


Zindagi ki har mod par,

Waqt ko tum hai aazma lo..!


Waqt hai thamta nahi ye,

Waqt ko tum jaan lo..!


Waqt par tu rakh bharosa,

Uncha shikhar tum ja chadho..!


Bhulna na waqt ko tum,

Sabko iska mahatva batate chalo..!


Waqt hai thamta nahi ye,

Waqt ko tum jaan lo..!



समय पर कविता - kavita waqt par


समय ये सिखाता है तुमको,

सवेरे ही उठना है तुमको..!


समय पर ही उठकर है तुमको,

दांत साफ़ करना है तुमको..!


समय पर ही नहा के है तुमको,

कपडे साफ़ सुथरे पहनना है तुमको..!


स्कूल की घंटी बजने से पहले,

पहुँचना है स्कूल तुमको..!


स्कूल की बीच की छुट्टी में,

खाना वक़्त पे खा लेना है तुमको..!


हर मुश्किल को पीछे छोड़,

वक़्त के साथ साथ पढ़ना है तुमको..!


बहुत आगे बढ़ना है तुमको,

स्वस्थ भी रहना है तुमको..!


रस्ते हो आंधी तूफ़ान के पर,

उनको पार करना है तुमको..!


कितनी भी पानी की ऊँची लहर हो,

उसको भी टकराना है तुमको..!


है मुझ में भी हौसला ये,

साबित कर दिखाना है सबको..!


रहूँगा सफल होकर मैं,

वक़्त के आगे चलना है मुझको..!


वक़्त में कितना है दम,

ये सबको बताना है मुझको..!


वक़्त है बलशाली तो क्या,

सामना तो करना है मुझको,

रहना है खुशहाल है मुझको..!


समय ये सिखाता है तुमको,

सवेरे ही उठना है तुमको..!



समय सिखाता है तुमको पर कविता


Samay ye sikhata hai tumko,

Savere hi uthna hai tumko..!


Samay par hi uthkar hai tumko,

Daant saaf karna hai tumko..!


Samay pe hi naha ke hai tumko,

Kapde saaf suthre pahanana hai tumko..!


School ki ghanti bajne se pehle,

Pahuchna hai school tumko..!


School ki bich ki chhutti me,

Khana waqt pe kha lena hai tumko..!


Har mushkil ko pichhe chhod,

Waqt ke sath sath padhna hai tumko..!


Bahut aage badhna hai tumko,

Swasth bhi rehna hai tumko..!


Raste ho aandhi toofan ke par,

Unko par karna hai tumko..!


Kitni bhi pani ki unchi lahar ho,

Usko bhi takrana hai tumko..!


Hai mujh me bhi hosla ye,

Sabit kar dikhana hai sabko..!


Rahunga safal hoke mai,

Waqt ke aage chalna hai mujhko..!


Waqt me kitna hai dum,

Ye sabko batana hai mujhko..!


Waqt hai balshali to kya,

Samna to karna hai mujhko,

Rehna hai khushhal hai mujhko..!


Samay ye sikhata hai tumko,

Savere hi uthna hai tumko..!



Kuchh akhiri batein:


Time poem in hindi इस कविता के माध्यम से मैंने आपको समय का हमारे जीवन में कितना मूल्य है ये बताया है वो समय कविता हिंदी में आपको समझाया है तो आप समय का मूल्य जरूर समझ गए होंगे इसीलिए वक़्त को अपने जीवन में पहला स्थान जरूर दे.


और ये कविता अच्छी लगी हो तो जरूर बताएं और आप बताये की आपको समय पर कविता जैसी और कौन सी कविता चाहिए अपना टॉपिक हमें बताएं.

एक टिप्पणी भेजें